KYC Full Form In Hindi – KYC क्या है व कैसे करें की पूरी जानकारी।

KYC ka full form -वर्तमान में केवाईसी करवाना बहुत जरूरी है क्योंकि इसी के माध्यम से व्यक्ति, उसका पता एवं अन्य जानकारी की पहचान की जाती है। केवाईसी की उपयोगिता को ध्यान में रखते हुए, मैं आपको इस लेख में KYC Kya Hota Hai (What Is KYC In Hindi) और KYC Ka Full Form Kya Hai इस बारे में बताने जा रहे है। यदि आप KYC Full Form, केवाईसी कराने के लिए आवश्यक Documents और इसे कैसे करवाए आदि जानकारी पाना चाहते है तो यहां पर आपको KYC In Hindi से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी दी गयी है।

KYC Kya Hai

KYC का प्रयोग बैंक और फाइनेंशियल संस्थाए अपने ग्राहक की पहचान और उनके एड्रेस को सत्‍यापित करने के लिए करते है। KYC का फुल फॉर्म या केवाईसी का हिंदी में अर्थ (KYC Meaning In Hindi) ‘नो योर कस्‍टमर ‘ होता है। KYC एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा बैंक या कोई भी फाइनेंसियल सेक्टर की कंपनी अपने ग्राहक से जरूरी KYC Documents के द्वारा एक फॉर्म भरवाकर ग्राहक की पहचान (Identity) और उसके पते (Address) की जानकारी प्राप्त करती है।

इस प्रक्रिया द्वारा यह सुनिश्चित किया जाता है कि उस बैंक या कंपनी की सेवाओं का दुरुपयोग तो नहीं किया जा रहा है। इस कारण बैंकों को समय-समय पर अपने ग्राहकों को KYC Status के अनुसार केवाईसी अपडेट करने की आवश्यकता होती है।

KYC क्यों जरूरी है?

यदि आसान शब्दों में केवाईसी का अर्थ (Meaning Of KYC) क्या होता है समझे तो, कोई भी बैंक या कंपनी KYC प्रक्रिया के अंतर्गत, अपने ग्राहक के पते और उसके बारे में कुछ आवश्यक जानकारियाँ लेती है। यह इसलिए महत्वपूर्ण है, ताकि कोई व्यक्ति यदि धोखाधड़ी के इरादे से अपनी गलत पहचान बताता है, तो वह आसानी से पकड़ा जाये। यह किसी बैंक या कंपनी के लिए बहुत ही आवश्यक है क्योंकि यह अपराधिक गतिविधियों को कम करता है।

इसे भी पढे

KYC करवाने के लिए आवश्यक Documents

आइए अब हम आपको बताते है, केवाईसी के लिये आवश्यक डॉक्यूमेंट (Documents) कौन से हैं?

KYC प्रक्रिया के दौरान ग्राहक को फॉर्म भरना होता है और उसके साथ वेरिफिकेशन के लिए कुछ आवश्यक दस्तावेज़ की प्रतिलिपि (Photocopy) अटैच करके जमा करनी होती है। KYC के लिए आपको नीचे दिए गए दस्तावेज़ों की आवश्यकता होती है –

  • ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License बनाए)
  • वोटर आईडी (Voter ID बनाए)
  • पासपोर्ट (Passport बनाए)
  • आधार कार्ड (Aadhaar Card)
  • पैन कार्ड (PAN Card)

KYC फॉर्म ऑनलाइन कैसे भरे?

अगर आप घर बैठे KYC वेरिफिकेशन करना चाहते है तो आप बहुत ही आसानी से कर सकते है। नीचे हमने आपको SBI Bank का उदाहरण देकर Step By Step जानकारी दी है कि, कैसे आप घर बैठे KYC Verification कर सकते है।

1. सबसे पहले www.onlinesbi.com इस लिंक पर क्लिक करें।

2. जैसे ही आप इस लिंक पर क्लिक करेंगे तो आपके सामने SBI की वेबसाइट खुल जाएगी। अब आपको वहाँ ‘Personal Banking’ ऑप्शन के नीचे ‘Login’ का विकल्प दिखेगा, उस पर क्लिक करना है।

3. इसके बाद आपको दाये तरफ (Right Side) ‘Continue To Login’ का विकल्प दिखेगा, उस पर क्लिक करके अपनी Net Banking Id से लॉगिन करें।

4. Login करने के बाद ‘Menu’ पर जाये, वहाँ आपको ‘e-services’ का विकल्प दिखेगा उस पर क्लिक करें।

5. जैसे ही आप इस पर क्लिक करेंगे आपको कई सारे ऑप्शन दिखाई देंगे, उनमें से आपको ‘PAN Registration’ पर क्लिक करना है।

6. अब अपना ‘Profile Password’ एंटर करके ‘Submit’ पर क्लिक करें।

7. अगली स्क्रीन पर आपको PAN Registered के नीचे ‘Click here to register’ का ऑप्शन दिखेगा उस पर जाये।

8. फिर अपने PAN Card Number को एंटर करें और फिर ‘Submit’ के ऑप्शन पर क्लिक करें।

9. जैसे ही आप Submit करेंगे आपके सामने ‘Confirm’ का ऑप्शन आएगा उस पर जाये।

10. अब आपके द्वारा Registered किए गए मोबाइल नंबर पर एक OTP आएगा, जैसे ही आप उस OTP को डालेंगे आपके द्वारा दर्ज की गई सारी डिटेल ‘Submit’ हो जायेंगी।

KYC से जुड़े अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

मुझे अपना केवाईसी नंबर कैसे पता चलेगा

आप किसी भी अधिकृत वित्तीय संस्थान को अपने आवश्यक डाक्यूमेंट्स के साथ एक आवेदन जमा करके 14 अंकों का CKYC नंबर प्राप्त कर सकते है, जिसे केवाईसी (KYC) पहचान संख्या (KIN) के रूप में भी जाना जाता है।

क्या आधार कार्ड केवाईसी के लिए पर्याप्त है?

अन्य बैंकिंग सेवाओं के लिए, आधार सबसे प्राथमिक पसंदीदा केवाईसी दस्तावेज है। हालाँकि, यदि आप आधार कार्ड नहीं देना चाहते है, तो आप भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा निर्धारित किसी अन्य अधिकृत या मान्य दस्तावेज़ का उपयोग कर सकते है।

KYC की वेरिफिकेशन के लिए कितना शुल्क लगता है?

केवाईसी की वेरिफिकेशन पूरी तरह से मुफ्त होती है इसके लिए किसी तरह का शुल्क देने की आवश्यकता नहीं होती।

अगर बैंक के ग्राहकों द्वारा KYC पूरी ना करवाई जाये तो क्या होता है?

अगर बैंक के द्वारा KYC पूरी न करवाई जाये तो बैंक ग्राहकों का लेन देन बंद कर देता है।

इसे भी पढे

Leave a Comment