बीपीओ में काम करने वाले कर्मचारी को क्या कहते हैं| BPO full form.

BPO full form और meaning यानी BPO क्या है? और इसका Hindi अर्थ क्या होता है? इसके बारे में आज हम जानेंगे.  आप BPO इंडस्ट्री में  JOB करना चाहते है तो इसके लिए आपको इसके बारे में जानना बेहद जरुरी है जैसे, यह इंडस्ट्री किस प्रकार की होती है.

इसमें क्या-क्या काम करना पड़ता है और इसमें कौन कौनसे role दिए जाते है आदि.  वर्तमान की बात करे तो इस इंडस्ट्री में जॉब करने के लिए कहीं candidate उत्सुक होते है. इस क्षेत्र को part time और full time जॉब दोनों के रूप में देखा जाता है.

BPO क्या होता है?

BPO का full formBusiness Process Outsourcing” होता है.

BPO यानी Business Process Outsourcing ये एक ऐसा व्यापार व्यवहार की प्रक्रिया है जहाँ एक संघटन किसी अन्य कंपनी को अपने task को पूरा करने के लिए hire करती है। किसी कंपनी का जो मूल व्यवसाय है और इस मूल व्यवसाय के अलावा भी कोई अतिरिक्त काम जो उस कंपनी की जरूरत है.

लेकिन वह उस कंपनी का हिस्सा नही है तो ऐसे में कंपनी अपना यह अतिरिक्त काम किसी अन्य कंपनी को सौप देती है इस सारी प्रक्रिया को BPO कहाँ जाता है|

इसे भी पढे

Type of BPO:

  1. Offshore Outsourcing: एक देश की कंपनी अपनी services प्रदान करने का काम दूसरे देश के कंपनी को सौंपती है, दूसरे देश के  कंपनी के साथ करार करती है इस प्रक्रिया को Offshore Outsourcing कहा जाता है.
  2. Onshore Outsourcing : एक कंपनी दूसरे कंपनी को अपनी services प्रदान करने का कार्य सौंपती है, इसमें दोनों कंपनियां एक ही देश से होती है. इस प्रक्रिया को Onshore Outsourcing तथा Domestic (देशीय/घरेलू) Outsourcing कहते है.
  3. Nearshore Outsourcing : एक कंपनी अपनी services प्रदान करने का कार्य अपने आसापास के यानी स्थानीय कंपनी को देती है इस प्रक्रिया को Nearshore Outsourcing कहते है.

Career In BPO

आप BPO के क्षेत्र में job करना चाहते है तो सबसे पहले आपको यह तय करना बेहद जरूरी है कि आप इसे long term करियर के रूप में देख रहे है या short term में आप इसे long term करियर के रूप में तभी देखे जब आपके पास कोई और professional degree ना हो और किसी अन्य क्षेत्र में काम मिलने के आसार बहुत कम हो.

लेकिन आपका field अगर अलग हो जैसे, engineering, Marketing, Management आदि. तो आपको इसे short term करियर के रूप में देखना ज्यादा बेहतर होगा क्योंकि इस क्षेत्र का अनुभव आपके मुख्य क्षेत्र में count नही किया जायेगा|

कहीं सारे candidate आर्थिक तंगी के कारण या एक्स्ट्रा इनकम के लिए तथा अपने field में जॉब ना मिलने के कारण इस क्षेत्र में जॉब करते है. चुकी अभी coronavirus lockdown की वजह से BPO companies और उनके jobs पर बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ा है ऐसे में इस समय लोगो को job पाने में problem का सामना करना पड़ रहा है.

BPO Companies के फायदे

  • Increase Sales & Productivity : BPO companies को अपने मुख्य business areas पर ध्यान focus करने में सक्षम बनाता है.
  • यह समय बचाने का काम करता है और अन्य projects में तेजी लाने में और अपने ग्राहक की सहायता करने में मदद करता है. यहाँ expert लोग काम को कुशलता से करते है जिसके कारण उत्पादकता में सुधार होता है.
  • Reduce Costs: अपना investment कम करना किस companies को अच्छा नही लगेगा, business cost reduce करने का महत्त्वपूर्ण काम BPO system करता है. BPO केवल लागत कम नहीं करता बल्कि productivity increase में और revenue बढाने मे भी मदद करता है. outsourcing के कारण कंपनी को बेहतर सेवाएं कम दरों में प्राप्त होती है जिससे उन्हें बेहतर market position का लाभ और इसके अलावा competition लाभ भी मिलता है.
  • System Utilization: BPO सिमित Resources का maximum utilization करने में सक्षम बनाता है. outsourcing नई श्रमता को जाँच ने का और संसाधनों को पुनः प्राप्त करने में मदद करता है. इससे उत्पादकता बढ़ती है और business cost reduce होता है.

BPO और Call Center में क्या अंतर है?

बहुत से लोगों का ये मानना होता है कि, BPO और call center एक ही होता है और दोनों का work process भी समान होता है लेकिन सच बात तो ये है call center एक तरह से BPO का ही एक हिस्सा है पर ये दोनों पूरी तरह समान नही है और इनके work process भी कुछ हद तक अलग अलग होते है.

  • BPO Online और Offline दोनों तरीके से हो सकता है तो call center सिर्फ Online तरीके से होता है.
  • Call center में केवल कॉल करना और कॉल उठाना शामिल होता है तो BPO में mails, meetings, printing, documents, call आदि. शामिल होते है.
  • BPO एक system की तरह काम करता है जिसका उद्देश्य अपने business की productivity बढाने का होता है तो वहीँ BPO का हिस्सा होने के कारण call center में अपने ग्राहक की सहायता करना और product का प्रचार करना शामिल होता है.
  • BPO में जॉब पाने के लिए Computer की जानकारी और अच्छी English की जानकारी अनिवार्य होता है तो call center में basic कंप्यूटर जानकारी और communication skill होना जरुरी है. (Note : Domestic BPO तथा call center में हिंदी और अन्य भाषाओं में जॉब उपलब्ध होते है.)
  • BPO में IT, finance, billing आदि जैसे अलग अलग डिपार्टमेंट होते है लेकिन call center में सिर्फ calling डिपार्टमेंट होता है.

पूछे गए सवाल

BPO का फूल फोरम क्या होता है ?

Business Process Outsourcing

कितने प्रकार के BPO होते है ?

3

BPO की तंनखा कितनी होती है ?

INR 3.2 lakhs सालाना

इसे भी पढे

Leave a Comment